जानिए, प्रधानमंत्री कब रखेंगे देश के इस सबसे बड़े इंटरनेशनल एयरपोर्ट की नींव

नोएडा: अब तक देश में सबसे बड़े क्षेत्रफल वाले एयरपोर्ट की जल्द ही आधारशिला रखी जाएंगी। इस एयरपोर्ट की आधार शिला कोर्इ आेर नहीं बल्कि खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रखेंगे। यह देश के साथ ही यूपी के इस जिले में रहने वाले लोगों के लिए बड़ी खुशखबरी है। इस बार दिपावली से एक माह..

 

पहले इंटरनेशनल एयरपोर्ट का शिलान्यास किया जाएगा। इसके लिए जल्द ही यमुना प्राधिकरण अधिकारी पीएम का प्रोग्राम लेने के लिए पत्र भेज सकते है।

इस महीने में रखी जाएगी इंटरनेशनल एयरपोर्ट की आधारशिला

यूपी के गौतमुद्धनगर में स्थित जेवर में बनने जा रहे। देश के सबसे बड़े इंटरनेशनल एयरपोर्ट की लंबे समय से चली आ रही मांग के बाद उड्डयान मंत्रालय समेत एयरपोर्ट अथाॅरिटी आॅफ इंडिया ने अनुमति दे दी है। अब इसकी सैद्घांतिक मंजूरी के बाद दिपावली से पहले महीने अक्टूबर में एयरपोर्ट की आधारशिला रखी जाएगी। वहीं केंद्रिय मंत्री आैर इस जिले के सांसद डाॅ महेश शर्मा ने कहा कि यह आधारशिला देश के पीएम नरेंद्र मोदी रखेंगे। इतना ही नहीं सरकार ने 2024 तक जेवर एयरपोर्ट से फ्लाइट्स को उड़ने का लक्ष्य तय किया है। वहीं आधारशिला के बाद इसके निर्माणकार्य तेजी से हो। इसके लिए एक कमेटी भी गठित की गर्इ है।

जून माह से शुरू होगा एयरपोर्ट की जमीनों का अधिग्रहण

वहीं एयरपोर्ट पर काम शुरू करने के लिए जल्द ही तारीख की घोषणा की जा सकती है। वहीं जून माह से प्राधिकरण अधिकारी एयरपोर्ट के लिए जेवर के गांवों के जमीनों का अधिग्रहण करेंगे। एयरपोर्ट के लिए तीन हजार हेक्टेयर जमीन की जरूरत पड़ेगी। इसके लिए सर्वे लगभग पूरा हो चुका है। जिसमें 240 हेक्टेयर जमीन सरकार की मिली है। जबकि बाकी बची जमीन का अधिग्रहण किया जाएगा, लेकिन पहले चरण में 1327हेक्टेयर जमीन की ही जरूरत पड़ेगी। इसके अधिग्रहण के बाद काम के अनुसार दूसरे, तिसरे आैर चौथे चरण में जमीनों का अधिग्रहण किया जाएगा। वहीं अधिकारियों की माने तो पहले फेज में आठ गांवों की जमीनों का अधिग्रहण करेंगे। इसको लेकर गांव वालों से अधिकारियों की वार्ता शुरू हो गर्इ है।

किसानों को मिल सकता है 4 हजार करोड़ रुपये

वहीं जेवर एयरपोर्ट के लिए जमीन अधिग्रहण का काम अगले महीने से शुरू किया जाएगा। इसके लिए किसानों को जमीन के बदले करीब चार हजार रुपये दिये जा सकते है। यह रुपया एकत्र करने की जिम्मेदारी प्रदेश सरकार समेत तीन प्राधिकरण यानी यमुना प्राधिकरण, ग्रेटर नोएडा आैर नोएडा प्राधिकरण को सौंपी गर्इ है। इसके लिए सभी की इसमें हिस्सेदारी भी सौंपी गर्इ है

काम की स्पीड जांच ने के लिए बनी कमेटी

वहीं इंटरनेशनल एयरपोर्ट का काम तय समय सीमा में पूरा कराने के लिए सरकार द्घारा एक कमेटी भी गठित की गर्इ है। इसके साथ ही जेवर हवार्इ अड्डे का निर्माण प्रदेश के मुख्य सचिव की निगरानी में होगा। वहीं नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने इसके लिए प्राेजेक्ट माॅनिटरिंग इंप्लीमेंटेशन कमेटी गठित कर दी है। इस कमेटी में ग्यारह सदस्य प्रोजेक्ट की निगरानी रखेंगे। इसके साथ ही एयरपोर्ट बनाने के लिए काम की स्पीड कम होने पर उसे आैर तेज कराएगी।

Courtesy : www.patrika.com